मंगलवार, 9 फ़रवरी 2010

दो छोटी कविताएं

ए•
ए•बहुत पानी है तुम्हारे बिना और बहुत प्यास भी। बहुत निराशा है तुम्हारे बिना और बहुत आस भी। असमंजस और आश्वासन दोनों तुम्हारे बिना और तुम्हारे साथ भी।
दो
खामोशी •ी भाषा मेंबैचेनी •ी लिपि मेंउस अजन्मे रिश्ते ने•ितनी चीखें मारी•ितने •िए सवालहाय! अरसे बाद क्योंहाथ लगी वहधूल भरी •िताब औरभीतर •ा सूखा गुलाब।

2 टिप्‍पणियां:

  1. pahali to sundar lagi kintu dusari me typing ki galtiyan sudhare to baat bane....Shubhechu.
    http://kavyamanjusha.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  2. दूसरे में अक्षर छूट गये हैं, उसे ठीक कर लें..


    पहली-उम्दा!

    उत्तर देंहटाएं