सोमवार, 5 जुलाई 2010

कहां चले गए बाबू




पिछले दिनों मेरे पिता श्री मार्कण्डेय प्रवासी का आकास्मिक निधन हो गया। वे हिंदी और मैथिली के जाने माने कवि थे। वे आर्यावर्त के पूर्व संपादक थे और १९८१ में साहित्य अकादमी ने अगस्तयायनी महाकाव्य के लिए उन्हें सम्मानित किया था। खास बात यह कि उस समय तक वे सभी भारतीय भाषा में सबसे कम उम्र में इस अवार्ड को हासिल करने वाले शख्स थे। गुवाहाटी से निकलने वाली मैथिली पत्रिका पूर्वोत्तर मैथिली उन पर अपना विशेषांक प्रकाशित कर रही है जिसके अतिथि संपादक श्री भीमनाथ झा हैं। इस पत्रिका के लिए ही उनसे जुड़ी यादें मुझसे मांगी गईं जिसका हिंदी अनुवाद मैं अपने ब्लॉग पर पेश कर रही हंू।



वर्ष २००१ की बात है। तब मैं पटना में फ्रीलांसिंग करती थी। उसदिन हिंदुस्तान के दफ्तर में बैठी थी। प्रेस फोटोग्राफर मित्र चित्राली ने कहा कि ईटीवी जल्दी ही बिहार से शुरू हो रहा है। प्रेमचंद रंगशाला चलो, वहीं से कुछ जानकारी हासिल होगी। दूसरे दिन सुबह बाबू से शेयर करने के लिए बहुत अच्छी-अच्छी बातें थीं। मैंने कहा, बाबू मैं ईटीवी के एक प्रोग्राम की स्क्रिप्ट राइटर और एसिस्टेंट डायरेक्टर हो गई हंू। उन्होंने प्रसन्नता व्यक्त की और कहा कि क्या रोज जाना होगा। मैंने भरपूर गर्व से कहा, हां, तब क्या! डिप्टी (ड्यूटी)है, कोई खेल नहीं।
यहां तक की कहानी तो बहुत खूबसूरत थी, पर समस्या तब शुरू हुई जब पता चला कि जल्दी ही शूटिंग शेड्यूल शुरू हो रहा है, जिसमें  मुझे भी नाइट ड्यूटी करनी होगी। अब तो मेरी हालत खराब। नाइट ड्यूटी और मैं। बाबू काट कर रख देंगे। कभी परमिशन नहीं देंगे। परमिशन तो दूर, मैं तो उनसे इस मुद्दे पर बात भी नहीं कर सकती। दिन पर दिन बीता जा रहा था, पर मैं उनसे कुछ पूछ नहीं सकी थी। लगता था कि कॅरियर बनाने का जो ख्वाब मैंने देखा है, वह  कम से कम इस रास्ते तो पूरा होने से रहा। एक दिन सुबह उनके रूम में बैठ कर भोजन कर रही थी। उन्होंने अचानक कहा, ईटीवी में तो शूटिंग के समय रात में भी तुम्हें मौजूद रहना होगा। ऐसा करना, मां को साथ ले जाना। देर रात लौटने में सुविधा होगी। मैं स्तब्ध रह गई। अरे...ऐसा भी हो सकता है! बाबू क्या कह रहे हैं? उन्हें मेरे मन की बात कैसे पता चल गई? फिर शूटिंग में मैं भले सुबह चली जाती, मां रात आठ-नौ बजे तक खाना बनाकर प्रेमचंद रंगशाला पहुंच जाती थीं। फिर रात के डेढ़ बजे या दो, मुझे इसकी कोई चिंता नहीं होती। मां के साथ मैं ऑफिस की गाड़ी से घर आ जाती थी। बाबू ने एक दिन कहा भी कि तुम अकेले भी आ सकती थी, पर मां के साथ रहने से आस-पड़ोस के लोगों को कुछ कहने का मौका नहीं मिलता है। इसलिए मां का साथ होना जरूरी है।
मैं मानती हंू कि वह दिन मेरे कॅरियर का निर्णायक दिन था। बाद में बतौर स्टाफ भी ईटीवी में मैंने काम किया। फिर अखबार में नौकरी शुरू किया। पर कॅरियर के इस पौधे को पनपने में बाबू के उस दिन के परमिशन ने अमृत जल का काम किया।
बेटी हाउसवाइफ बने, यह शायद बाबू को कभी पसंद नहीं था। लेकिन शाम घिरते ही हमारे लिए घर पहुंच जाना एक अघोषित फरमान सा था। मीडिया में काम करने की अनुमति भी मुझे बहुत मुश्किल से मिली। हिंदुस्तान में जब फ्रीलंासिंग कर रही थी, तब कभी-कभी बेहद आश्चर्य होता कि किसी-किसी दिन रात सात-साढ़े सात बजे तक घर पहुंचने पर भी यदि बाबू वहां दिख जाते तो नाराज नहीं होते। लेकिन एक दिन तो हद हो गई। मैं पटना दूरदर्शन के सलेक्टड कंपेयर पैनल में भी थी।  एक दिन अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का कंपेयरिंग करने का मौका मिला। कार्यक्रम खत्म हुआ तो टाइम देखती हंू, रात के साढ़े नौ बज रहे थे। मेरा तो जैसे खून सूख गया। गेस्ट से पहले घर जाने के लिए गाड़ी का अनुरोध की। डरते-डरते घर पहुंची। अब तो हुआ चेतना, बहुत कर ली कंपेयरिंग। बाबू तो अब निकलना बंद करवा देंगे। घर आयी तो देखती हंू, बाबू किसी से फोन पर बात कर रहे हैं। मेरी तरफ नजर गई तो जिससे बात कर रहे तो, उसे कहने लगे, हां-हां, चेतना आ गई हैं। बात करनी है, लीजिए बात कीजिए। फिर मेरे प्रोग्राम के बारे में भी उन्होंने पूछा कि वह कैसा रहा।
जींस पर लौंग कुर्ता तो मैं अक्सर पहनती थी, पर सहेलियों को देखकर मेरी भी इच्छा हुई कि शॉर्ट शर्ट और जींस पहनू। उनदिनों मैं ईटीवी में काम कर रही थी। जींस शर्ट पहन कर दूसरे गेट से सुबह ऑफिस के लिए निकल गई। शाम के लिए निश्चिंत थी कि जब तक मैं लौटंूगी, बाबू घर से निकल चुके होंगे, इस लिए डर की कोई बात नहीं है। लौटी तो घर की सीढिय़ों पर चढ़ते समय देखती हंू कि बाबू किसी विचार में मगन सीढिय़ों से उतर रहे हैं। बाबू की नजर मुझ पर पड़ी या नहीं, हे भगवान, अब क्या होगा? मैं तेजी से घर में घुस गई। पीछे से बाबू की आवाज भी आई, मि_ू....। मैं डर के मारे पंलग की नीचे घुस गई। बाबू ने बहुत प्यार से मुझ बुलाया। फिर साथ बैठा कर बोले, तुम लड़कों की मानसिकता नहीं समझती हो। ऐसे कपड़े पहनने पर बहुत भद्दी गालियां देते हैं। इसी तरह एक दिन किसी ने मुझे साड़ी के मॉडलिंग का ऑफर दिया। तब भी बाबू ने यही कहा कि मुझे पता है कि तुम  गलत काम नहीं करोगी और तुम्हें जिसने ऐसा ऑफर किया है, उसका भी उद्देश्य गलत नहीं होगा। पर इस फील्ड में अक्सर गलत प्रसार हो जाता है। इसी प्रसंग में एक और बात याद आ रही है। अपने फ्रीलांसिंग के दौर में मैंने कुछ सरकारी विज्ञापनों में अपनी आवाज भी दी थी। यह काम मुझे हिंदुस्तान के किसी साथी के माध्यम से मिला था। बाबू को जब मैंने इस बारे में बताया था तो उन्होंने कहा कि ठी है, काम करो, पर किसी एड के लिए हां करने से पहले पूछ लेना कि किसका विज्ञापन है। एक दिन जब मुझे विज्ञापन में व्हाइस देने के लिए कॉल किया गया तो मैंने पूछा किसका विज्ञापन है? जवाब जो मिला उससे बाबू की बात का मतलब समझ आया। बाबू, कैसे आप सारी बात समझ लेते थे और कितनी अच्छी तरह से मुझे तर्क पेश करते हुए अपनी बात समझाते थे?
सभी भाई-बहनों में मैं ही थी जो बाबू से सबसे ज्यादा क्लोज थी। शादी के बाद भी किसी समस्या पर बाबू को ही फोन करती थी। मां के बारे में सोचती थी कि वह भावुकतापूण जवाब देगी। बाबू ही प्रैक्टिकल समाधान सुझाएंगे। शादी के बाद अपनी नई गृहस्थी शुरू करने जा रही थी, तो उन्होंने कहा, मि_ू ससुराल में कोई मेरी बुराई भी करे तो नाराज मत होना। हालांकि मेरी ससुराल में सभी सुझले हुए और शांत मानसिकता के हैं पर सोचिए कि ससुराल जा रही बेटी के लिए यह कितना बड़ा मंत्र है। साज-समान से लेकर बात-व्यवहार व काम तक प्राय= मैथिला के घर-आंगन में बहुत सहजता से बहूओं के पिता का नाम ले लिया जाता है। अक्सर बड़ी से बड़ी बात पर भी कोई प्रतिक्रिया नहीं देने वाली बहुएं पिता तक बात पहुंचने पर उत्तेजित हो जाती हैं और प्रतिक्रिया में जवाब दे देती हैं। ऐसे में बाबू की यह बात बहुत मायने रखती है।
घर में जाति को लेकर कोई सवाल नहीं उठता था। लेकिन इंटरमीडियट में एक सहेली के घर जाकर मैं बेहद पेशोपश में पड़ जाती थी। वह चमार जाति से संबंध रखती थी। भाई जरूर डॉक्टर बन गया था पर उसके माता-पिता अभी भी पुस्तैनी काम करते थे। मैं उसके घर जाती थी तो वह चाय-नास्ता पेश कर देती थी। जब वह थोड़ा इधर-उधर होती थी तो मैं चुपके से खिड़की से चाय-नास्ता फेंक देती थी। बाबू से जब मैंने इस संदर्भ में बात की तो उन्होंने मेरा पूरा ब्रेनवॉश कर दिया। वे कहने लगे कि यह तो तुम बहुत गलत करती हो। मेरे तो कई मित्र एसटी-एससी हैं। मैं तो बहुत सहजता से सबके घर खाता-पिता हंू। आखिर वे भी इंसान हैं। किसी दिन उसे तुम्हारी इस ओछी हरकत के बारे में पता चलेगा तो उसकी भावनाएं कितनी आहत होगी। मैं अगले दिन उसके घर गई और कहा कि बहुत भूख लगी हैं, कुछ खाने को तो दे।
मैथिल समाज खासकर साहित्यकारों में  मैंने कई लोगों को देखा कि दूसरे के बच्चों के घर में हिंदी बोलने पर तो वे जी भर के निंदा करते हैं, पर अपने बच्चे यदि हिंदी-अंग्रेजी बोलते हैं तो गर्व से सीना फुलाए घूमते हैं। मैंने अपने बाबू को इस मुद्दे पर कभी किसी की शिकायत करते नहीं देखा। चार भाई बहनों में सबसे छोटी थी। भाई-बहनों के प्रयोग और पड़ोसियों की संगत का ऐसा असर हुआ कि घर में मैं ही ऐसी निकली जो बोलना सीखी तो हिंदी में। अब तो मां-बाबू परेशान। अपनी भाषा नहीं बोलेगी तो कैसे काम चलेगा। अस्सी के शुरूआती दशक में पटना में विद्यापति पर्व समारोह का बहुत क्रेज था। वर्ष में एक बार होने वाला यह समारोह मैथिली भाषा और संस्कृति को समर्पित था। इसमें तीन दिन तक पूरी रात खुले मैदान में पंडाल लगा कर सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन होता था। मां-बाबू इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए ऐसी तैयारी करते मानो किसी विवाह उत्सव में शामिल होना हो। जैसे बच्चों के लिए गर्म कपड़े तैयार करना ताकि खुले मैदान में पूरी रात गुजारने से तबियत नहीं खराब हो। मां-बाबू ने मुझसे कहा कि मैथिली नहीं बोलोगी तो विद्यापति पर्व समारोह में प्रवेश नहीं मिलेगा। इस डर ने असर दिखाया और मैं कम से कम मां-बाबू से मैथिली में बात करने लगी। बाद में इंटरमीडियट में मैथिली एक्सट्रा सब्जेक्ट के रूप में भी उन्होंने मुझे दिलाया ताकि अपनी संस्कृति और भाषा को जान सकंू।
इसी प्रसंग में एक बात और यााद आ रही है। बचपन से अब तक मुझे बाबू शब्द से बहुत शिकायत थी। अरे ये कौन सी बात हुई। मां-बाबू दोनों पढ़े लिखे हैं। कब से पटना में रह रहे हैं। गांव-देहात क्या कहें घर में काम करने वाली बाई के बच्चे भी अपने पैरेंट्स को मम्मी-पापा का सम्बोध देते हैं। हम लोग मां-बाबू बोलते हैं। दोस्तों के सामने कितनी शर्म आती है। लेकिन इन्हें इसकी क्या परवाह। इनके लिए तो मां-बाबूजी अपनी संस्कृति के संबोधन हैं। और बाबू को तो बाबूजी से ज्यादा बाबू शब्द में अपनापन लगता है। धन्य थे आप बाबू। कहां चले गए बाबू। बाबू कहकर पुकारने के लिए भीतर ही भीतर चित्कार मार रही हंू। बाबू...........।

1 टिप्पणी:

  1. aapne apne shanghrshon ke dinon ko prabhavshali tarike se likha hai. vastut kariyar banane men gharvalon ka bahut bada yogdan rahta hai. aap patrakar hai. yah jankar behad khushi hui.

    Dr. Maharaj singh parihar
    my blog
    www.vichar-bigul.blogspot.com
    09411404440

    उत्तर देंहटाएं